Posted in Sports

BHU का छात्र आंदोलन एक बड़े राजनीतिक परिवर्तन का संकेत तो नहीं है : विशेष लेख


MY TIMES TODAY. आजकल देश के सबसे बड़े विश्वविद्यालयों में शुमार होने वाला वराणसी का बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) चर्चा में है. वजह है छात्रों का गुस्सा, उनका सड़कों पर आना और पुलिसिया हिंसा के बावजुद विश्वविद्यालय के खिलाफ जमकर आंदोलन करना. शायद यह पहला आंदोलन है जिसमें लड़कों की जगह लड़कियों ने आंदोलन का बिगुल फूंका है. आंदोलन के तुफान को आप इस बात से समझ सकते है कि इस आंदोलन ने पीएम से लेकर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ तक की चैन छीन लिया है. इस आंदोलन के बाद देश में सियासत का उफान अपने चरम पर है.विपक्ष भी मौके की नजाकत को समझ कर इस आंदोलन के राजनीतिकरण में कोई कसर छोड़ना नहीं चा रहा है. विपक्ष ने सीधे सीधे संघ और सरकार पर आरोप लगा कर सरकार को बैकफुट पर ला दिया है.वही सोशल मीडिया पर भी लोग सरकार और विश्वविद्यालय प्रशासन को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है. इस तरह छात्र आंदोलन का राजनीतिकरण होना कोई नई बात तो नहीं है पर एक बड़े राजनीतिक परिवर्तन का संकेत जरूर है. आपको याद होगा कि सत्तर के दशक में जब इंदिरा सरकार थी तब बिहार के जय प्रकाश नारायण के आंदोलन ने सत्ता और सियासत के सिहासन को उलट पलट के रख दिया था. जेपी के आंदोलन के अन्य कारण भी जरूर थे पर जिसतरह से छात्रों ने आंदोलन में अपनी भूमिका निभाई थी, गिरफ्तारियां दी थी, लाठियां खाई थी, वह कोई सामान्य घटना नहीं थी. इंदिरा गांधी जैसी साहसी पीएम भी आपातकाल लगाने पर मजबूर हो गयी थी. इंदिरा को आगामी चुनाव में हारना पड़ा था और तब केंद्र में जनता पार्टी की सरकार बनी थी. आपको याद होगा कि पिछले वर्ष जेएनयू में भी मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी हुई थी, कई दिनों तक लोकसभा – राज्यसभा के सत्र बाधित रहे थे, राहुल गांधी से लेकर केजरीवाल जैसे बड़े नेताओं ने इस आंदोलन में सीधे सीधे दखल दिया था. अभी जेएनयू का मामला थमा भी नहीं था कि हैदराबाद यूनिवर्सिटी में रोहित बेमुला की मौत ने एक और आंदोलन की नींव रख दी. उस आंदोलन में भी मोदी सरकार बैकफुट पर आ गयी थी.तत्तकालिन शिक्षामंत्री स्मृति ईरानी बार बार संसद में सफाई देने पर मजबुर हो गयी थी. इसीतरह आईआईटी मद्रास, एमयू, दिल्ली विश्वविद्यालय और एफटीआई पूणे में भी छात्रों के सरकार विरोध जोरदार तेवर देखने को मिले थे. इन सभी आंदोलनों का राजनीतिक नुकसान भी कहीं ना कहीं बीजेपी को जरूर उठाना पड़ा. इस साल भी जेएनयू के साथ साथ दिल्ली विश्वविद्यालय में भी बीजेपी के छात्र संगठन एबीवीपी को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा.इसतरह से एक के बाद एक हो रहे छात्र आंदोलन तथा उन सभी आंदोलनों में नेताओं की भूमिका देखी जाए तो इन आंदोलनों के राजनीतिक परिदृश्य को समझा जा सकता है. अगर यह भी स्वीकार करना होगा कि राजनीतिक दल भी ऐसे मौकों का फायदा उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है. चूंकि केंद्र में बीजेपी सरकार है और यूपी में भी योगी सरकार है . ऐसे में बीएचयू का आंदोलन कहीं न कहीं बड़े राजनीतिक परिवर्तन की तरफ इशारा कर रहा है.

लेखक : इंद्रभूषण मिश्र।

आप इसे liveindia.news पर भी पढ़ सकते है.

Posted in News

आखिर क्यों जल रहा है BHU ?


mytimestoday.देश का गौरव कहा जानेवाला बीएचयू इन दिनों राजनीतिक और छात्रों की हिंसा में जल रहा है.हजारों की संख्यां में छात्राएं सड़को पर उतरी आई है.छात्रों के उग्र होने के बाद पुलिस से टकराव भी हुआ जिससे आंदोलन और ज्यादा उग्र हो गया. लगातार तीन दिनों से जारी हिंसा और उग्र आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है.पीएम मोदी के बनारस आने पर भी छात्राओं ने पीएम को गो बैक कह कर जमकर विरोध किया.इधर विपक्ष इसको सरकार की नाकामी बता रहा है और चौतरफा हमला कर रहा है वही यूनीवर्सिटी प्रशासन इसे प्रयोजित आंदोलन बता रहा है.

आईए जानते हैं क्यों जल रहा है बीएचयू :

सुरक्षा और लफंगों की गंदी हरकतें :लड़कियों ने एफआईआर में कहा था- छात्रावास के समीप लड़के करते हैं हस्तमैथुन  सुरक्षा को लेकर छात्राओं ने एफआईआर भी दर्ज कराया था. एफआईआर में छात्रों ने शिकायत की थी कि छात्रावास के समीप लड़के हस्तमैथुन करते हैं और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते हैं. छात्रावास से आने – जाने का मार्ग सुरक्षित नहीं है. वहीं रात में सुरक्षा अधिकारी का तैनाती नहीं की गयी है. छात्राओं का कहना था कि आये दिन रास्ते में छेड़छाड़ की घटानएं होती रहती है. कैंपस में अंतर्राष्ट्रीय छात्रों को छेड़छाड़ का सामना करना पड़ता है, हम सबके लिए यह अत्यंत शर्मनाक है.    गुरूवार को छात्रा के साथ हुई थी छेड़खानी  गुरुवार की शाम बीएफए द्वितीय वर्ष की एक छात्रा दृश्यकला संकाय से हास्टल की ओर जा रही थी.  इस दौरान भारत कला भवन के पास कुछ शोहदों ने उससे छेड़खानी की और कपड़े उतारने की कोशिश की. इस घटना से सहमी छात्रा ने बचाने की गुहार लगाई. छात्रा के मुताबिक  चंद कदम की दूरी पर बैठे सुरक्षाकर्मियों ने उस पर ध्यान नहीं दिया. छात्रा ने जब इस बात की शिकायत की तो यह कहकर टाल दिया गया कि इतनी शाम को तुम्हें बचकर चलना चाहिए. इस घटना की जानकारी मिलते ही छात्राओं में उबाल आ गया

पुलिस का उग्र होना : गौरतलब है कि देर रात छेड़खानी को लेकर छात्राएं प्रदर्शन कर रही थी. इस दौरान पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया.जिसकी खबर फैलते ही छात्राओं के समर्थन में दूसरे हॉस्टल के छात्र भी आंदोलन में कूद गए और कुछ ही देर में आंदोलन हिंसक हो उठा. हालात को काबू में पाने के लिए मौके पर पहुंची पुलिस ने हवाईं फायरिंग की तो दूसरी तरफ से भी आगजनी की गई और पेट्रोल बम फेंके गए.माहौल इतना खराब हो गया की आसपास के जिलों से फोर्स मंगाई गई, लेकिन छात्रों की मोर्चाबंदी नहीं टूटी. रह रहकर पथराव होता रहा. BHU : छात्राओं ने ‘सिंह द्वार’ को 18 घंटे तक रखा जाम, सिर मुंडवा कर छेड़खानी का विरोध कर रही है.