Posted in News

बजट पर विपक्ष बेरहम , आप ने बजट को कहा पकौड़ा

गुरूवार को वित मंत्री अरूण जेटली ने लोकसभा में अपना आखिरी सबसे बड़ा बजट पेश किया.बजट पेश होने के बाद लोगों की प्रतिक्रियाएं भी आनी शुरू हो गयी.जहां एक तरफ कुछ लोग बजट की तारीफ कर रहे है वही दूसरी तरफ विपक्ष बजट पर सवाल भी खड़े कर रहा है.

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा लोकसभा में पेश किये गये बजट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रहार किया है. उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दी और कहा कि 4 साल बीत गये, लेकिन किसानों को आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला. 4 साल बीत गये युवाओं को रोजगार नहीं मिला.शुक्र है अब सिर्फ एक साल बचे हैं.

वही आप ने बजट को पकौड़ा बजट कहा है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि केंद्र दिल्ली के साथ ‘‘सौतेला व्यवहार जारी रखे हुए है. केजरीवाल ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में महत्वपूर्ण ढांचागत विकास के लिए कुछ वित्तीय सहायता की उन्हें उम्मीद थी. केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘‘मैं देश की राजधानी में ढांचागत विकास के लिए कुछ वित्तीय सहायता की उम्मीद कर रहा था. मुझे निराशा है कि केंद्र का दिल्ली के साथ सौतेला व्यवहार जारी है.

वही पूर्व वित मंत्री पू चिदंबरम ने पलटवार करते हुए कहा कि इस बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली राजकोषीय मजबूती की परीक्षा में फेल हुए हैं और इसके गंभीर परिणाम सामने आएंगे. उन्होंने कहा कि 2017-18 के लिए राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 3.2% पर रखा गया था लेकिन इसके 3.5% पर पहुंचने का अनुमान है.

Posted in News

बजट पर बड़ी बातें वेब पर सबसे पहले

आज वित मंत्री अरूण जेटली साल का सबसे बड़ा बजट पेश कर रहे है.मोदी सरकार का ये आखिरी पूर्ण बजट है, क्योंकि लोकसभा चुनाव 2019 में होने वाले हैं. इस बार बजट में राहत मिलने वाली है या फिर बोझ और ज्यादा बढ़ने वाला है, इसको लेकर लोग कयास लगा रहे हैं. वहीं इस बार उम्मीद है कि मोदी सरकार टैक्स छूट की सीमा बढ़ा सकती है.

बजट में अब तक क्या हुआ :

देश के आम नागरिक के जीवन को आसान बनाया जा रहा है. वहीं विदेशी निवेश में भी बढ़ोत्तरी हुई है. अर्थव्यवस्था पटरी पर है. भारत जल्द दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा.

जीएसटी के बाद टैक्स कलेक्शन बढ़ा है, जीएसटी को आसान बनाने की कोशिश जारी है. बाजार में कैश का प्रचलन कम हुआ है. वित्त मंत्री अरुण जेटली.नया ग्रामीण बाजार ई-नैम बनाया जा रहा है. 2 हजार करोड़ की लागत से कृषि बाजार बनाया जाएगा.

अनाज का उत्पादन बढ़कर 217.5 टन हो गया है और किसान, गरीबों की आय बढ़ी है. फलों का उत्पादन 30 टन हुआ है. खरीफ का समर्थन मूल्य उत्पादन लागत से डेढ़ गुना हुआ है. किसानों को पूरा एमएसपी देने की कोशिश है.

स्वच्छ भारत मिशन के तहत अगले फाइनेंशियल ईयर में 2 करोड़ नए शौचालयों का निर्माण होग.स्वच्छ मिशन से 6 करोड़ शौचालय बने हैं, इसका फायदा मिला है.अगले वित्तीय साल में 2 करोड़ शौचालय बनाने का लक्ष्य.

देश में हर गरीब के घर में रोशनी पहुंचे, इसके लिए सरकार द्वारा प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना की शुरुआत की गयी है. इस योजना के तहत देश के चार करोड़ गरीब घरों को बिना किसी शुल्क के बिजली कनेक्शन से जोड़ा जा रहा है. इस योजना पर 16 हजार करोड़ रुपये खर्च किये जा रहे हैं.

आयुष्मान भारत के तहत प्राइमरी, सेकेंडरी और टर्शियरी हेल्थ और वेलनेस सिस्टम 1.5 लाख खोले जाएंगे.ये सेंटर मुफ्त दवाओं मिलेंगी इसके लिए 12 हजार करोड़ रुपए दिए जाएंगे.

नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम जिसमें 10 करोड़ परिवारों को मदद.5 लाख रुपए प्रति परिवार प्रति साल मिलेगा.दुनिया का सबसे बड़ा हेल्थ केयर प्रोग्राम होगा.50 करोड़ लोगों को इसका फायदा मिलेगा.

टीचर्स की क्वालिटी सुधारने के लिए खास ट्रेनिंग योजना.डिजिटल इंटेसिटी से ब्लैक बोर्ड से इलेक्ट्रॉनिक बोर्ड की तरफ चलेंगे.2022 तक आदिवासी इलाकों में एकलव्य स्कूल खोले जाएंगे.

रिसर्च के लिए अगले 4 साल के लिए एक लाख करोड़ रुपए का आवंटन.पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर में खास इंस्टीट्यूट.18 नए आर्किटेक्चर स्कूल खोले जाएंगे.वडोदरा में रेलवे यूनिवर्सिटी खोली जाएगी.

बांस की खेती को बढ़ावा देगी सरकार.आलू-प्याज के उत्पादन पर होगा जोर.1400 करोड़ रुपये कृषि संपदा योजना में देंगे.जो उत्पादन हो रहा है उसके निर्यात के लिए सरकार कदम उठा रही है.