Posted in News

चित्र भारती फिल्म महोत्सव का भव्य समापन,कई हस्तियां रहीं मौजूद


दिल्ली के सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में आयोजित चित्र भारती फिल्म महोत्सव का भव्य समापन बुधवार को किया गया। तीन दिनों तक चलने वाले इस महोत्सव के समापन सत्र में सीबीएफसी के अध्यक्ष प्रसून जोशी, प्रख्यात फिल्म निर्देशक सुभाष घई, ख्याति प्राप्त फिल्म लेखक विजेंद्र प्रसाद सहित जानी मानी हस्तियां मौजूद रहीं।  इस मौके पर तीन दिनों तक दिखाई गयी फिल्मों में से चयनित बेस्ट फिल्मों को पुरस्कृत किया गया।

बता दें कि भारतीय चित्र साधना के तत्वावधान में आयोजित इस फिल्म समारोह में देश भर से सात सौ से अधिक प्रविष्टियां आई थी। जिसमें से 160 चयनित फिल्मों को तीन दिनों तक दिखाया गया। इस फिल्म समारोह में देशभर के युवा फिल्मकारों और छात्रों ने भाग लिया। इस दौरान फिल्म जगत की प्रख्यात हस्तियों जैसे फिल्म निर्देशक मधुर भंडारकर, सुभाष घई, भोजपुरी स्टार मनोज तिवारी, सुदीप्तो सेन आदि ने मास्टर क्लास के माध्यम से युवा फिल्मकारों को प्रशिक्षण भी दिए। इससे पहले उद्घाटन के मौके पर हेमा मालिनी, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर, मधुर भंडारकर, अर्जुन रामपाल, प्रियदर्शन, सुदीप्तो सेन आदि हस्तियां मौजूद रही।
Posted in News

साधना के बिना अधूरा हैं सिनेमा : समृति ईरानी


माय टाइम्स टुडे। फिल्म में साधना का होना अपने आप में अनोखा है। फिल्मों को साधना से जोड़कर सिनेमा में भारतीयता को समावेश करने की जो पहल भारतीय चित्र साधना ने की है वह अनकरणीय है। यह बातें केद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कही। वह सिरी फोर्ड ऑडिटोरियम में आयोजित तीन दिवसीय चित्र भारती फिल्म महोत्सव के उद्घाटन सत्र में बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रही थी। उन्होंने हेमा मालिनी का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने जिस तरह से सिनेमा में साधना को जिया है वह एक मिशाल है।
स्मृति ने कहा कि भारतीय चित्र साधना युवा फिल्मकारों को प्रोत्साहित करने में अहम भूमिका निभा रहा है। आज बहुत से युवा फिल्मकार कम बजट में बेहतर करना चाहते हैं। ऐसे युवाओं के लिए भारतीय चित्र साधना एक बेहतरीन मंच है।


वही इस मौके पर बॉलीवुड की जानी मानी अभिनेत्री और भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने कहा कि वह एक लम्बे अर्से से सिनेमा जगत से जुड़ी हुई है। फिल्मों के कारण ही मेरी पहचान बनी है और मुझे खुशी है कि मेरी अधिकांशत: फिल्में भारतीय संस्कृति पर आधारित है। आज वैश्विक स्तर पर हमारी फिल्मों की अलग पहचान है। दुनिया के मनोरंजन जगत पर हमने अमिट छाप छोड़ी हैं। हेमा मालिनी ने भारतीय चित्र साधना की तारीफ करते हुए कहा कि युवाओं को फिल्म क्षेत्र में प्रोत्साहित करने के लिए यह अनुकरणीय कार्य कर रहा है।


जबकि इस मौके पर उपस्थित प्रख्यात फिल्म निर्देशक और स्वागत समिति के अध्यक्ष मधुर भंडारकर ने कहा कि वह शुरूआत से भारतीय चित्र साधना से जुड़े रहे है। भारत में फिल्मों को समाज का आइना कहा जाता है। और इस आइने में समाज दिखना भी चाहिए। मधुर जी ने कहा कि इंटरनेट की वजह से आज बहुत से बदलाव हुए हैं, लोग भी शार्ट फिल्में ही देखना पसंद करते हैं। चित्र साधना पर उन्होंने कहा कि यह एक अच्छा प्लेटफार्म है जिसके माध्यम से नए कलाकारों और निर्माताओं को एक अच्छा अवसर मिल रहा है।


इस मौके पर भारतीय सिनेमा जगत के लोकप्रिय अभिनेता अर्जुन रामपाल ने अपने संबोधन में कहा कि भारत एक ऐसा देश है जो दुनिया में सबसे अधिक फिल्में बनाता है। और अपनी संस्क्रति का प्रचार कर रहा है। फिल्मों पर अपनी चिंता जाहिर करते हुए कहा कि इतना सब होने के बावजूद भी आस्कर में एक भी भारतीय फिल्म को नहीं चुना जाता है। इसका कारण उन्होंने नकल को बताया और कहा कि नकल से और बेईमानी से सिर्फ फिल्में बन सकती हैं पर अवार्ड नहीं पा सकती हैं। और चित्र साधना एक अच्छा माध्यम है जो मेहनती कलाकारों को नाम और अवार्ड दोनों दिलाएगा।
इस मौके पर विशेष रूप से पधारे हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि आज के समय में हमारी फिल्मों पर पश्चिमीं देशों का प्रभाव बढ़ रहा है, मनोरंजन के नाम पर अश्लीलता परोसी जा रही है। हमें शिक्षा के माध्यम से इसे दूर करना होगा। चित्र साधना ने जो फिल्मों को भारतीय संस्कृति से जोड़ने की पहल जो भारतीय चित्र भारती ने किया है वह प्रशंसनीय है.

हरियाणा में जल्द ही बनेगा फिल्म विश्वविद्यालय…

इस मौके पर मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि हमारी सरकार जल्द ही हरियाणा में फिल्म विश्वविद्यालय बनायेंगे. आज ऐसी फिल्मों की जरुरत है जो हम परिवार के साथ बैठकर देख सकें।

वही स्वागत भाषण में चित्र साधना के अध्यक्ष आलोक कुमार ने दिया। उन्होंने ने कहा कि मुझे खुशी हो रही है कि यहां पर हम सम्पूर्ण भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।
इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में स्मृति ईरानी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर , ड्रीम गर्ल के नाम से विख्यात अभिनेत्री हेमा मालिनी, प्रसिद्ध अभिनेता अर्जुन रामपाल, निर्माता-निर्देशक मधुर भंडारकर,एस प्रियदर्शन, माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो ब्रजकिशोर कुठियाला सहित कई जानी-मानी हस्तियां शामिल हुईं।इस मौके पर माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय की द्वारी प्रकाशित चित्र भारती समाचार का विमोचन भी किया गया।

यह भी पढ़ें: फिल्म देख कर लोगों को कैसा लगा..