" />

ये हमारा वतन, हमें प्राणों से प्यारा हैं, जिसे पाकर हुए हम धन्य, वह भारत हमारा हैं…… गंगा की गोद में, हम पले बढ़े हैं, हिमालय की छांव में, हम हर शिखर तक चढ़े हैं, जात धरम से ना है नाता, मजहब हैं हमारी भारत माता, इस जमीं ने, हमारा […]