कविता इसी काल खंड में जमाने का दस्तूर बदलूंगा…..

फर्श है तो अर्श भी है,
मुश्किलें हैं तो संघर्ष भी है,
बाधाओं से डर जाऊं,
यह मुमकिन नहीं,
जीत जाऊं तो जश्न है,
हार जाऊं तो भी गमगीन नहीं,
न राह बदलूंगा,
न रूह बदलूंगा,
इसी काल खंड में,
जमाने का दस्तूर बदलूंगा……

Indrabhushan Mishra

MY TIMES TODAY

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

UPSC 2016 में 14 वां रैंक लाने वाले उत्सव कौशल का साक्षात्कार

Wed Feb 27 , 2019
MY TIMES TODAY
Right Menu Icon