कविता – न तुझको पता न मुझको पता

एमटीटी नेटवर्क। 

मैं जब भी देखता हूं,
तुझको ही देखता हूं,
क्यों देखता हूं,
ना तुझको पता न मुझको पता…
जब भी सोचता हूं,
तुझको ही सोचता हूं,
क्या ख़्याल है क्या हाल है
न तुझको पता न मुझको पता….
धूप है कि छांव है,
ना गति है न ठहराव है,
जहां तुम हो वहां मैं हूं
कैसे कहें किससे कहें
न तुझको पता न मुझको पता….#Mr.IBM

इंद्रभूषण मिश्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

वेब पर सबसे पहले मैं राष्ट्रवाद और देशभक्ति पर बोलने आया हूं प्रणब मुखर्जी

Thu Jun 7 , 2018
एमटीटी नेटवर्क।  मैं जब भी देखता हूं, तुझको ही देखता हूं, क्यों देखता हूं, ना तुझको पता न मुझको पता… जब भी सोचता हूं, तुझको ही सोचता हूं, क्या ख़्याल है क्या हाल है न तुझको पता न मुझको पता…. धूप है कि छांव है, ना गति है न ठहराव […]
MY TIMES TODAY
Right Menu Icon