कविता – न तुझको पता न मुझको पता

एमटीटी नेटवर्क। 

मैं जब भी देखता हूं,
तुझको ही देखता हूं,
क्यों देखता हूं,
ना तुझको पता न मुझको पता…
जब भी सोचता हूं,
तुझको ही सोचता हूं,
क्या ख़्याल है क्या हाल है
न तुझको पता न मुझको पता….
धूप है कि छांव है,
ना गति है न ठहराव है,
जहां तुम हो वहां मैं हूं
कैसे कहें किससे कहें
न तुझको पता न मुझको पता….#Mr.IBM

Author profile
लेखक ,पत्रकार ,कवि

लेखक फक्कड़ पत्रकार है। विभिन्न विषयों पर बेहिचक लिखना लेखक की आदत है। कविताएं, कहानियां और ऊपर से राजनीति के विषयों पर नेताओं को आईना दिखाना लेखक का धर्म है। लेखक किसी मोह माया में नहीं पड़ता है और नहीं किसी के प्रलोभन का जरा भी उसे असर होता है।

You may also like...

MY TIMES TODAY
Right Menu Icon