Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/bioinfor/public_html/mytimestoday.com/wp-content/themes/default-mag/assets/libraries/breadcrumb-trail/inc/breadcrumbs.php on line 254

सफाई के नाम पर दिखावा ठीक नहीं साहब


माय टाइम्स टुडे। अक्सर चुनावी मौसम में या बड़े इवेंट में पीएम, सीएम आदि बड़े नेताओं को झाड़ू लगाते हुए देख कर आप क्या सोचते हैं? आये दिन हमें ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया, अखबार या टीवी पर देखने को मिलती है जिसमें बड़े नेता झाड़ू लगाते हुए दिखते है. प्रश्न यह है कि आखिर बड़े नेता सड़को पर झाड़ू लगाकर क्या बताना चाहते है? यही कि सरकार सफाई और स्वच्छता को लेकर बहुत ही जागरूक है या फिर लोगों को यह बताने की कोशिश करते है कि देखो पीएम और सीएम झाड़ू लगा सकता है तो आम आदमी क्यों नहीं? सरकार और इन नेताओं के इस पक्ष को अगर सही मान लिया जाए तो यह प्रश्न उठता है कि इतना कुछ दिखावा करने के बाद और करोड़ो रूपए स्वच्छता के ऊपर खर्च करने के बाद भी सफाई दिखती क्यों नहीं है. हमारी सड़के इतनी गंदी क्यों है ? इन नेताओं की नजर वहां क्यों नहीं गयी? कभी बड़े नेताओं ने रेलवे के शौचालयों की सफाई क्यों नहीं की? कहीं ऐसा तो नहीं है कि नेताओं की सफाईगिरी महज फोटो और मीडिया कवरेज बनने का एक जरिया है.हम ऐसा इस लिए कह रहे हैं कि पिछले दिनों यूपी के सीएम आदित्यनाथ योगी आगरा पहुचें थे. वह वहां ताजमहल का दीदार करने गए थे. योगी के आगमन को लेकर आगरा को सजाया गया था. हर जगह साफ- सफाई की गयी थी फिर भी ताज परिसर के एक हिस्सें थोड़ी गंदगी बच ही गयी थी जिसे साफ करने के लिए योगी आदित्यनाथ को झाड़ू उठाना पड़ा. पास के एक दुकानदार ने क्या दावा किया कि यहां तीन दिन से सफाई नहीं हुई, योगी जी आकर सफाई करेंगें, इसके लिए कूड़ा जमा कर रहे थे ये, वरना सुबह शाम यहां सफाई होती है.अब प्रश्न यह उठता है कि हर जगह साफ सफाई थी तो उस थोड़े से हिस्से में गंदगी क्यों थी ? क्या वहां के सफाई कर्मचारियों की गलती थी कि वहां की गंदगी उनको दिखी नहीं या फिर ऐसा जानबूझ कर किया गया जिससे योगी की झाड़ू लगाते हुई तस्वीर मीडिया की खबर बन सकें. और इस चुनावी मौसम में योगी वाहवाही बटोर सकें. अब इस हरकत को सफाई के नाम पर दिखावा नहीं कहा जाए तो और क्या कहा जाए.वास्तव में सरकार का सफाई के नाम पर यह दिखावा महज दिखावा ही है. देश के बड़े बड़े शहरों की सफाई और स्वच्छता किसी से छिपी नहीं है.रेलवे प्लेटफॉर्म और रेलवे शौचालयों की दशा तो ऐसी है कि ये नेता फोटो के बहाने भी वहां नहीं जा सकते. पिछले साढ़े तीन साल में मोदी सरकार ने स्वच्छता के नाम पर करोड़ो रुपए बहाये, बड़े बड़े नेताओं और मंत्रियों से झाड़ू लगवाए फिर भी सफाई नहीं दिखी क्यों ? बेहतर होता सरकार और सरकार के मंत्री स्वच्छता के नाम पर हो रहे खर्च और उनके क्रियान्यवन को सही तरह से समझ पाते तो उनको कभी झाड़ू उठाने की जरूरत ही नहीं पड़ती.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सरदार पटेल की मूर्ति का सिर पहुंचा गुजरात

Sat Oct 28 , 2017
माय टाइम्स टुडे। अक्सर चुनावी मौसम में या बड़े इवेंट में पीएम, सीएम आदि बड़े नेताओं को झाड़ू लगाते हुए देख कर आप क्या सोचते हैं? आये दिन हमें ऐसी तस्वीरें सोशल मीडिया, अखबार या टीवी पर देखने को मिलती है जिसमें बड़े नेता झाड़ू लगाते हुए दिखते है. प्रश्न यह […]