Posted in News

कोई भी रोल छोटा नहीं होता : मनोज तिवारी

माय टाइम्स टुडे। नई दिल्ली। कोई भी रोल कभी छोटा नहीं होता है। देश में ऐसे कई कलाकार हुए हैं जिन्होंने छोटी फिल्मों से ही अपनी पहचान बनायी है। अक्सर बड़े बड़े मंच और रोल की तलाश में व्यर्थ समय चला जाता है। यह बातें भोजपुरी के जाने माने अभिनेता और भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने कही। श्री तिवारी सिरी फोर्ड ऑडिटोरियम में आयोजित चित्र भारती फिल्म महोत्सव में अभिनय का प्रशिक्षण दे रहे थे। युवाओं को अभिनय का गुर सीखाते हुए श्री तिवारी ने कहा कि हमें शुरूआत में जो भी रोल मिले उसको बखूबी दिल से करना चाहिए। उन्होंने राजपाल यादव का उल्लेख करते हुए कहा कि शूल फिल्म में एक छोटे से दृश्य से राजपाल यादव को पहचान मिली थी।आज देश भर में कम बजट की फिल्में परचम लहरा रही हैं। क्षेत्रीय भाषाओं पर बनी फिल्में जबरदस्त लोकप्रियता हासिल कर रही है। युवाओं का आगे आकर अपनी क्षेत्रीय भाषाओं में फिल्में बनाने पर जोर देना चाहिए। साथ ही युवाओं को अभिनय के साख साथ लेखन कला को भी समृद्ध बनाने पर जोर देना चाहिए।
अर्थपूर्ण सिनेमा बनाने पर दिया जोर : 
अभिनय प्रशिक्षण के दौरान श्री तिवारी ने कहा कि हमें व्यापार और बाजारवाद से ऊपर उठकर अर्थपूर्ण सिनेमा बनाने पर जोर देना चाहिए। आज के दौर में फिल्मों से भारतीयता की आत्मा मरती जा रही है। ऐसे में यह जरूरी हो गया है भारतीयता को मूल में रखकर सिनेमा बनाया जाए। भारतीय चित्र साधना इसी परंपरा को आगे बढ़ाते हुए सराहनीय कार्य कर रही हैं।
बिहार और झारखंड में जल्द होगा भोजपुरी फिल्म सिटी का निर्माण : 
इस मौके पर एक प्रश्न के जवाब में श्री तिवारी ने कहा कि जल्द ही राजगीर और झारखंड में फिल्म सिटी का निर्माण होगा। इसके लिए 300 एकड़ जमीन भी खरीद लिया गया है।
भोजपुरी गानों से बांधा समां : 
मनोज तिवारी ने भोजपुरी गाने गा कर दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया। जैसे ही उन्होंने गाना शुरू किया दर्शकों का उत्साह देखते ही बनता था। जीह हो बिहार के लाला, कम्पटीशन देता, चट देनी मार दिहनी खींच के तमाचा जैसे गाने गाकर दर्शकों का दिल जीत लिया।
Posted in News

चित्र भारती फिल्म महोत्सव का भव्य समापन,कई हस्तियां रहीं मौजूद


दिल्ली के सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में आयोजित चित्र भारती फिल्म महोत्सव का भव्य समापन बुधवार को किया गया। तीन दिनों तक चलने वाले इस महोत्सव के समापन सत्र में सीबीएफसी के अध्यक्ष प्रसून जोशी, प्रख्यात फिल्म निर्देशक सुभाष घई, ख्याति प्राप्त फिल्म लेखक विजेंद्र प्रसाद सहित जानी मानी हस्तियां मौजूद रहीं।  इस मौके पर तीन दिनों तक दिखाई गयी फिल्मों में से चयनित बेस्ट फिल्मों को पुरस्कृत किया गया।

बता दें कि भारतीय चित्र साधना के तत्वावधान में आयोजित इस फिल्म समारोह में देश भर से सात सौ से अधिक प्रविष्टियां आई थी। जिसमें से 160 चयनित फिल्मों को तीन दिनों तक दिखाया गया। इस फिल्म समारोह में देशभर के युवा फिल्मकारों और छात्रों ने भाग लिया। इस दौरान फिल्म जगत की प्रख्यात हस्तियों जैसे फिल्म निर्देशक मधुर भंडारकर, सुभाष घई, भोजपुरी स्टार मनोज तिवारी, सुदीप्तो सेन आदि ने मास्टर क्लास के माध्यम से युवा फिल्मकारों को प्रशिक्षण भी दिए। इससे पहले उद्घाटन के मौके पर हेमा मालिनी, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर, मधुर भंडारकर, अर्जुन रामपाल, प्रियदर्शन, सुदीप्तो सेन आदि हस्तियां मौजूद रही।