Posted in News

आखिर क्यों जल रहा है BHU ?


mytimestoday.देश का गौरव कहा जानेवाला बीएचयू इन दिनों राजनीतिक और छात्रों की हिंसा में जल रहा है.हजारों की संख्यां में छात्राएं सड़को पर उतरी आई है.छात्रों के उग्र होने के बाद पुलिस से टकराव भी हुआ जिससे आंदोलन और ज्यादा उग्र हो गया. लगातार तीन दिनों से जारी हिंसा और उग्र आंदोलन थमने का नाम नहीं ले रहा है.पीएम मोदी के बनारस आने पर भी छात्राओं ने पीएम को गो बैक कह कर जमकर विरोध किया.इधर विपक्ष इसको सरकार की नाकामी बता रहा है और चौतरफा हमला कर रहा है वही यूनीवर्सिटी प्रशासन इसे प्रयोजित आंदोलन बता रहा है.

आईए जानते हैं क्यों जल रहा है बीएचयू :

सुरक्षा और लफंगों की गंदी हरकतें :लड़कियों ने एफआईआर में कहा था- छात्रावास के समीप लड़के करते हैं हस्तमैथुन  सुरक्षा को लेकर छात्राओं ने एफआईआर भी दर्ज कराया था. एफआईआर में छात्रों ने शिकायत की थी कि छात्रावास के समीप लड़के हस्तमैथुन करते हैं और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करते हैं. छात्रावास से आने – जाने का मार्ग सुरक्षित नहीं है. वहीं रात में सुरक्षा अधिकारी का तैनाती नहीं की गयी है. छात्राओं का कहना था कि आये दिन रास्ते में छेड़छाड़ की घटानएं होती रहती है. कैंपस में अंतर्राष्ट्रीय छात्रों को छेड़छाड़ का सामना करना पड़ता है, हम सबके लिए यह अत्यंत शर्मनाक है.    गुरूवार को छात्रा के साथ हुई थी छेड़खानी  गुरुवार की शाम बीएफए द्वितीय वर्ष की एक छात्रा दृश्यकला संकाय से हास्टल की ओर जा रही थी.  इस दौरान भारत कला भवन के पास कुछ शोहदों ने उससे छेड़खानी की और कपड़े उतारने की कोशिश की. इस घटना से सहमी छात्रा ने बचाने की गुहार लगाई. छात्रा के मुताबिक  चंद कदम की दूरी पर बैठे सुरक्षाकर्मियों ने उस पर ध्यान नहीं दिया. छात्रा ने जब इस बात की शिकायत की तो यह कहकर टाल दिया गया कि इतनी शाम को तुम्हें बचकर चलना चाहिए. इस घटना की जानकारी मिलते ही छात्राओं में उबाल आ गया

पुलिस का उग्र होना : गौरतलब है कि देर रात छेड़खानी को लेकर छात्राएं प्रदर्शन कर रही थी. इस दौरान पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया.जिसकी खबर फैलते ही छात्राओं के समर्थन में दूसरे हॉस्टल के छात्र भी आंदोलन में कूद गए और कुछ ही देर में आंदोलन हिंसक हो उठा. हालात को काबू में पाने के लिए मौके पर पहुंची पुलिस ने हवाईं फायरिंग की तो दूसरी तरफ से भी आगजनी की गई और पेट्रोल बम फेंके गए.माहौल इतना खराब हो गया की आसपास के जिलों से फोर्स मंगाई गई, लेकिन छात्रों की मोर्चाबंदी नहीं टूटी. रह रहकर पथराव होता रहा. BHU : छात्राओं ने ‘सिंह द्वार’ को 18 घंटे तक रखा जाम, सिर मुंडवा कर छेड़खानी का विरोध कर रही है.