भोपाल।समाचार-पत्र जो काम नहीं कर सकते, वह काम साहित्य करता है। साहित्य के शब्द आत्मा से संवाद करते हैं। जब हम एकांत में होते हैं तो साहित्य के शब्द गुनगुनाते हैं। जब हम आत्मा के पास जाते हैं, तब भी हम साहित्य से संवाद करते हैं। यह विचार वरिष्ठ साहित्यकार […]

भोपाल। कवि पैदा होते है, बनाए नहीं जाते है.कवि तो नैसर्गिक होते है वह किसी संस्थान में तैयार नहीं किये जा सकते है.मीडिया विमर्श की तरफ से आयोजित पं बृजलाल द्विवेदी सम्मान समारोह में मुख्य वक्ता के तौर पर उपस्थित प्रख्यात समालोचक डॉ विजय बहादुर सिंह ने कहा कि साहित्य कभी […]

माय टाइम्स टुडे। हिंदी की साहित्यिक पत्रकारिता के क्षेत्र में दिए जाने वाला पं. बृजलाल द्विवेदी अखिल भारतीय साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान इस वर्ष ‘अलाव’ (दिल्ली) के संपादक श्री रामकुमार कृषक को दिया जाएगा. श्री रामकुमार कृषक साहित्यिक पत्रकारिता के एक महत्वपूर्ण हस्ताक्षर होने के साथ-साथ देश के जाने-माने संस्कृतिकर्मी, कवि एवं लेखक हैं.वे […]