Posted in News

इंदिरा गांधी कला केंद्र में ‘राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में हिंदी पत्रकारिता’ विषय पर सफल परिसंवाद का आयोजन


MY TIMES TODAY. शनिवार को दिल्ली के इंदिरा गांधी कला केंद्र में मीडिया स्कैन एवं इंदिरा गांधी कला केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में ‘राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में हिंदी पत्रकारिता ‘ विषय पर परिसंवाद का आयोजन किया गया। जिसमें पत्रकारिता जगत के अनेक हस्तियों ने भाग लिया। इस मौके पर देश के जाने माने लेखकों के संकलित 35 लेख की पुस्तक ‘राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में हिंदी पत्रकारिता’ का विमोचन भी किया गया। इस पुस्तक के संपादक डॉ सौरभ मालवीय है।

कार्यक्रम में अपनी बात रखते हुए दैनिक भास्कर के संपादक आनंद पांडेय ने कहा कि संपादक की अपनी पेशेवर मजबूरियां होती हैं जिसकी वजह से वह बहुत कुछ छाप नहीं पाता है। एक तरफ संपादक जहां मोटी कमाई में लगे रहते है वही दूसरी तरफ संस्थान के मालिकों की निगाहें सेंसेक्स पर लगी रहती हैं। अब तो मालिकों में राजनीतिक प्रलोभन की होड़ भी लग गयी है। श्री पांडेय ने आगे कहा कि संपादक को पाठकों की पसंद का भी ध्यान रखना होता है।

 ज़ी हिंदुस्तान के बृजेश कुमार सिंह ने अपनी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की मजबूरियां गिनाई. उन्होंने कहा कि कुछ चैनल नाग नागिन, और ड्रामा दिखा के अचानक टीआरपी बटोरने लगाता है वही हम प्राइम टाइम में सीरियस इशू उठाते  है तो भी हमें उतनी टीआरपी नहीं मिलती हैै। ऐसे में एक संपादक खुद को ठगा हुआ महसूस करता है कि हम बढ़िया सामग्री लेकर प्राइम टाइम में हाज़िर हुए मगर टीआरपी दूसरे चैनल के हाथ लग गयी।

इस मौके पर बीबीसी की पत्रकार सरोज सिंह ने भी अपनी बात रखी।  कार्यक्रम का संचालन आजतक के वरिष्ठ एंकर सईद अंसारी ने किया। इस मौके पर सामाजिक कार्यकर्ता अतुल भाई कोठारी, राष्ट्रवादी चिंतक अालोक कुमार, डॉ सौरभ मालवीय, डॉ सच्चिदानंद जोशी, श्रीमती विनीता श्रीवास्तव, टीवी एंकर ऋचा अनुरूद्ध सहित अनेेक हस्तियां मौजुद रही।