आईए महेश्वर की खूबसूरती का दीदार करें

माय टाइम्स टुडे। महेश्वर का इतिहास लगभग 4500 वर्ष पुराना है. यह एक समय होल्कर साम्राज्य की राजधानी हुआ करता था. होल्कर महारानी देवी अहिल्या शिव भक्त थी.वह भगवान शंकर की पूजा किए बिना पानी तक ग्रहण नहीं करती थी. वह भगवान शिव की इस हद तक अनन्य भक्त थी कि अपने हस्ताक्षर की जगह श्री शंकर लिख देती थी. रामायण काल में महेश्वर को माहिष्मति के नाम से जाना जाता था.उस समय हैहय वंश के राजा सहस्राजुर्न शासन करते थे. महाभारत काल में इसे अनूप जनपद की राजधानी बनाया गया…

Read More