Posted in Sports

हमारी बहनें दुनियां का सबसे अनमोल तोहफा होती है

MY TIMES TODAY.दुनिया में भाई – बहन का रिश्ता सबसे अनमोल होता है। यह एक ऐसा रिश्ता होता है जिसमें स्नेह की मिठास होती है, नोक-झोंक होती है, रुठना -मनाना तो इस रिश्ते की परंपरा रही है। कितनी मर्जी लड़ाई-झगड़ा क्यों न हो लेकिन दोनों कुछ ही देर में फिर से ऐसे हो जाते हैं जैसे कुछ हुआ ही न हो। बहन अपने भाई की लंबी उम्र के लिए जहां दुआ मांगती है, व्रत रखती हैं, वहीं अपने लिए भाई से हर मुसीबत में रक्षा का वचन भी मांगती है। इस पवित्र रिश्ते से बढ़कर कोई रिश्ता नहीं है। दरअसल बहनें हमारे लिए नदी समान होती है, जो तमाम मुश्किलें सह कर भी अपने भाईयों के नित्य बहती रहती है। जब हम अपने बचपन के दिनों को याद करते है तो हमारा रोम – रोम रोमांचित हो जाता है। वो बहनें ही होती है जो हमारी उंगलियां पकड़ कर हमें चलना सिखाती है। मुझे आज भी याद है जब मैं छोटा था तो दिदी मुझे कभी गोद में तो कभी उंगली पकड़ कर पुरे मुहल्लें में घुमाया करती थी। अपने हिस्से की चीजें भी मुझे खिलाया करती थी। 

आज रक्षा वंधन विशेष में हम आपके लिए लेकर आये है बचपन से जुड़ी ऐसी बातें जो आप जरूर मिस करते होंगे :

सबसे पहला दोस्त : 

बहन- भाई सबसे अच्छे दोस्त होते हैं। बाहर की दुनिया में हमारे कितने भी दोस्त क्यों न हो पर घर में हमारी दोस्त बहनें ही होती है।हमारी जो बातें  मम्मी भी नहीं जान पाती वो एक बहन झट से समझ लेती है। स्कूल कॉलेज की बाते हो, या अपने अन्य दोस्तों की बाते हो, सबसे पहले हम अपनी बहनों से ही शेयर करते है। कई बार गलती करने के बाद बहनों के सहारे ही हम मम्मी- पापा की मार खाने से बच जाते है। 

जब कहीं घुमने का प्लान हो : 

स्कूल कॉलेज के दिनों मे अक्सर हम सभी घुमने जाने या सिनेमा जाने के समय बहनों का सहारा लिया करते थे। तब हमारी बहनें ही बहाने बना के हमें मम्मी पापा के डांट से बचा लेती थी।

 उधार पैसों का आपस में जुगाड़

भाई-बहन का प्यार हो और आपस में उधार पैसों का लेनदेन ना हो तो मजा नहीं आता है। कई बार तो आपस में उधार लेकर हम अपने काम किया करते है।

बहन की सहेली पर भाई का मुस्कुराना

यह तो बहुत ही सामान्य सी बात है, अक्सर भाई बहनों को उसकी सहेली की तारीफ कर चिढ़ाते रहते है। जब कोई भाई अपनी बहन से कहता है कि तुम्हारी फलां सहेली बहुत सुंदर है तो फिर समझ लिजिए भाई का पिटना तय है।

4.   बहन को शादी के नाम से जलाना

हर भाई अपनी बहन को शादी के नाम से खूब जलाता है।अक्सर हमारी नोक झोंक का अंत ही ऐसे होता है जब बहन की शादी की बात को लेकर उसका भाई डराता है। लेकिन सच्चाई यह है कि जब बहन की शादी हो जाती है तब सबसे ज्यादा दुखी भाई ही होता है।

राखी का इंतेजार: 

राखी के त्योहार का इंतेजार आज भी हमें उसी सिद्दत से होता है, जैसे बचपन में हुआ करता था। यह एक मात्र त्योहार है जिसका इंतेजार बहनें एक -एक दिन करती है। रक्षा बंधन के समय हम जब भी बाजार में जाते है तो बहनों से पुरा बाजार पटा रहता है। हर बहनें अपने भाईयों के लिए ऐसे राखी चुनती है जैसे अपने भाई के लिए भाभी चुन रही हो। राखी का दर्द वही समझ सकता है जो अपनी बहनों से दूर है। अपनी कलाई पर अपने से राखी बांघनी पड़े इससे बढ़ के और तकलिफ क्या हो सकती है।

रक्षा बंधन के पावन त्योहार पर सभी बहनों को माय टाइम्स टुडे परिवार की तरफ से बहुत सारा प्यार, ढ़ेर सारी दुआएं। साथ ही हम वचन देते हैं अपनी बहनों के हक़ के लिए हमारी लेखनी सदैव प्रखरता से लिखती रहेगी।