कविता – न तुझको पता न मुझको पता

एमटीटी नेटवर्क।  मैं जब भी देखता हूं, तुझको ही देखता हूं, क्यों देखता हूं, ना तुझको पता न मुझको पता… जब भी सोचता हूं, तुझको ही सोचता हूं, क्या ख़्याल है क्या हाल है न तुझको पता न मुझको पता…. धूप है कि छांव है, ना गति है न ठहराव है, जहां तुम हो वहां मैं हूं कैसे कहें किससे कहें न तुझको पता न मुझको पता….#Mr.IBM

Read More

तेरा होकर भी तुझमे मौन हूं मैं…

MY TIMES TODAY. mytimestoday.com किसी ने पूछा मेरे कौन हो तुम, मेरा जबाब कुछ यूं था, दिल से देखो तो आपके आईने की सूरत हूं, महसुस करो तो रुह से रुह तक की जरुरत हूं, प्यास लगे तो मुझे पी लेना, धड़कने गर थमे तो मेरी सांसों मे जी लेना, नींद गर ना आए तो मेरी आंखों मे सो जाना, कुछ ख्वाब गर जो अधुरे रह गए तो मेरे ख्वाबों को ले जाना, जीते जी कुछ काम आ सकू तो अपना लेना, गर फिर भी जो कुछ अधुरा रह गया…

Read More

उसकी एक याद बहुत हैं मुझे रूलाने के लिए… Mr.IBM

MY TIMES TODAY. lipstunes कभी इश्क जूनुन था, कभी आशिकी जीद थी, ना कुछ पाने की तम्मना थी, ना कुछ खोने का डर था, बेइंतहा चाहा था उन्हे, और बस वही एक उम्मीद थी, हर हसरत हंस के भूला दिया था, कि वो मिलेंगे ऐसा उसने भरोसा दिला दिया था, आज ना मेरी कोई मंजिल है, ना कोई सहारा हैं, तन्हाईयों में बेशुमार दिल है, कमब्खत वक्ता का मारा है, जी रहां हूं अपना ग़म भूलाने के लिए, पर उसकी एक याद बहुत हैं मुझे रूलाने के लिए… Mr.IBM

Read More

तू दूर है इन आंखों से पर ओझल नहीं : कुमार इंद्रभूषण

MY TIMES TODAY.  तू दूर है मुझसे, मगर इन आंखों से ओझल नहीं, तेरी याद ना आये मुझे, ऐसा कोई पल नहीं, याद आते हैं वो लम्हें वो सारी बातें, कॉलेज के दिन और हॉस्टल की रातें, वो तेरे हसीन् नखड़े, बात – बात पे झगड़े, वो तेरा रूठना, और मेरा मनाना, वो कयामत का गुस्सा, याद आ रहा है आज एक – एक किस्सा, ये मचलती घटायें, ये बरसता सावन, बावला हुआ मैं, भींग रहा है ये मेरा मन, कह रही है मुझसे मेरी वफाएं, काश वो दिन फिर…

Read More