" />

लगभग 50 साल तक देश के सांसद रहे ,तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे अटल बिहारी वाजपेयी आज हमारे बीच नहीं हैं। लेकिन मन नहीं मानता हैं, किसी को विश्वास नहीं हो रहा है कि संसद में अपनी आवाज और ओजस्विता से विरोधियों की बोलती बंद करने वाला खामोश हो जाएगा। […]

एमटीटी नेटवर्क।  मैं जब भी देखता हूं, तुझको ही देखता हूं, क्यों देखता हूं, ना तुझको पता न मुझको पता… जब भी सोचता हूं, तुझको ही सोचता हूं, क्या ख़्याल है क्या हाल है न तुझको पता न मुझको पता…. धूप है कि छांव है, ना गति है न ठहराव […]