Close

भोपाल। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने बुधवार को माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के राजनीतिकरण के विरोध में प्रदर्शन किया। विद्यार्थी परिषद ने सरकार पर आरोप लगाया है कि वह विश्वविद्यालय का राजनीतिकरण कर रही है। हाल ही में सुप्रसिद्ध पत्रकार जगदीश उपासने को बिना किसी कारण त्यागपत्र देने पर मजबूर किया गया एवं आईएस अधिकारी को कुलपति बनाया गया। यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और शैक्षणिक संस्थाओं की स्वाययता के प्रति प्रश्नचिन्ह खड़ा करता है।
साथ ही मीडिया की रिपोर्ट में यह सामने आया है कि विश्वविद्यालय में जांच कमेटी का गठन किया गया है जो कि विश्वविद्यालय के 2003 से लेकर 2018 तक के कार्यों की जांच करेगी। यह साफ है कि यह जांच राजनीति से प्रेरित है। जांच समिति के सदस्यों के नामों से स्पष्ट झलकता है यह जांच पहले से तय निर्णय को लेने के लिए की जा रही है एवं जांच समिति के दो सदस्य राजनीतिक पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता एवं प्रवक्ता है। विश्वविद्यालय के अधिनियम के अनुसार मध्य प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव को जांच के समिति गठित करने का कोई अधिकार नहीं है। व्यवस्था के अनुसार जांच का निर्णय महापरिषद का होना चाहिए।

यह सभी बातें यह साफ करती है कि विश्वविद्यालय के अंदर राजनीतिक तत्वों का प्रभाव है तथा शिक्षा के मंदिर कहे जाने वाले विश्वविद्यालय में राजनीतिक हस्तक्षेप हो रहा है। इस प्रकार के निर्णय छात्र हितों के विरुद्ध एवं पत्रकारिता की स्वतंत्रता पर भी लांछन लगाने का प्रयास है।

इन्हीं मुद्दों को लेकर बुधवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भोपाल के कार्यकर्ताओं ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय में प्रदर्शन किया एवं राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा। दिन में 1:30 बजे विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ विश्वविद्यालय पर पहुंचे जहां उन्हें विश्वविद्यालय के अंदर जाने से रोका गया। लगभग आधा घंटा कार्यकर्ताओं को गेट पर ही रोकने के बाद उन्हें अंदर जाने दिया गया जहां पर विश्वविद्यालय परिसर में कार्यकर्ताओं ने मध्य प्रदेश सरकार एवं विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की और प्रदर्शन किया। छात्रों ने यह मांग की कि उन्हें कुलपति से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपना है पर कुलपति की अनुपस्थिति में परिषद के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, बंटी चौहान  ने उनसे फोन पर बात की एवं विश्वविद्यालय के कुलसचिव को ज्ञापन सौंपा, जिस पर उन्होंने इन सभी मुद्दों पर विचार करने का आश्वासन दिया। पर बंटी चौहान  ने कहा कि यदि प्रदेश कांग्रेस सरकार विश्वविद्यालयों के राजनीतिकरण पर रोक नहीं लगाती है तो विद्यार्थी परिषद पूरे प्रदेश में उग्र आंदोलन करेगा।

प्रदर्शन में मुख्य रूप से भोपाल महानगर मंत्री, हितांशु श्रीवास्तव, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य बंटी चौहान, महानगर सह मंत्री सुश्री पूजा पाल, भाग संयोजक अभिषेक त्रिपाठी, भाग संयोजक पियूष शर्मा, भाग संयोजक आयुष पाराशर समेत कई कार्यकर्ता एवं विश्वविद्यालय के छात्र उपस्थित रहे।

Close

Lifestyle

error: Content is protected !!