Movie Review : अंधाधुन : रोमांस , मर्डर मिस्ट्री और सस्पेंस से भरपूर

अंधाधुंध बधाई हो..

कलाकार : आयुष्मान खुराना, तब्बू, राधिका आप्टे इत्यादि।

कहानी
पूणे की गलियों में घूमती कहानी। कभी अंधाधुंध अपार्टमेंट में कत्ल। कभी रोमांस। कभी अंधाधुंध आर्टिस्ट का जुनून देखने को मिलेगा । अंधाधुंध आकाश के आंखों में सपने देखने को मिलता है । आकाश के आंखों की रोशनी गायब हो गई है। फिर आकाश के आखों में सपने हैं।

ओपनिंग : आकाश को बिल्ली से प्यार है और पियानो से।
आकाश अंदर के आर्टिस्ट को जगाना चाहता है।
-इंटरवेल प्रीवियस
मिड-इन : स्टोरी में सस्पेंस अब और भी है आकाश ने मिस्टर प्रमोद सिन्हा के इनविटेशन पर घर पहुंचाने पर मिस सिंहा से मिलता है। फिर वहां जो फील करता है। आपने देखा होगा। नहीं देखा है फिल्म जरूर देखिए।

-इंटरवेल आफ्टर : कहानी में दिलचस्पी तब और बढ़ जाती है जब पति, पत्नी और प्रेमी में पैसे-पैसे का खेल चालू होता है। ये पति पत्नी और प्रेमी कौन है जानने के लिए सिनेमाघर बोले थिएटर तक जरूर जाना चाहिए।

अंत : A’KAS’ पियानो आर्टिस्ट की मुलाकात राधिका आप्टे से होती है। और अंत में आकाश stick से जार को हटाता है। आप समझ गए होंगे कि सस्पेंस कितना है?

इस फिल्म के निर्देशक श्रीराम राघवन के लिए मैं स्टोरी को 5 में से 4 स्टार देता हूँ

शुभम् द्विवेदी
कवि और फिल्म समीक्षक

Leave a Reply

Your email address will not be published.