कविता – मां मेरी

You can share it

मां मेरी…

————

मां मुझे तुम सबसे प्यारी, तुमसे जानी दुनिया सारी

अच्छा-बुरा सब मैं न जानूं, मां मैं तुमको बस अपना मानूं

मैंने तुमसे जन्म है पाया, तुमने ही संसार दिखाया

मां मुझे तुम सबसे प्यारी, तुमसे जानी दुनिया सारी

मां मैं जब-जब देखूं तुमको, मिलती खुशियाँ मेरे मन को

मेरे जीवन की हर कठनाई, मां तुमने ही दूर भगाई

मां मुझे तुम सबसे प्यारी, तुमसे जानी दुनिया सारी

मां तुमने परछाई बनकर, साथ दिया है मेरा हरपल

जब देखीं तकलीफें मेरी, उड़ जाती थीं नींदें तेरी

मां मुझे तुम सबसे प्यारी, तुमसे जानी दुनिया सारी

तेरे प्यार का न कोई मोल, जग जाने ये है अनमोल

तुझसा प्यार कहीं न पाऊं,रूठूं भी तो कहां मैं जाऊं

मां मुझे तुम सबसे प्यारी, तुमसे जानी दुनिया सारी

प्रिया त्यागी…

कविता – मां मेरी

मां मेरी... ------------ मां मुझे तुम सबसे प्यारी, तुमसे जानी...

Read More

कविता – मेरे पापा

तबीयत ठीक है मेरी", इस झूठ को एक पल में...

Read More

कविता : “तमन्नाओं का पिटारा “

एमटीटी। कविता।  मां हमारी चांद, और हम उसके तारे थे।...

Read More

Related posts

Leave a Comment