कविता – मेरे पापा

You can share it

तबीयत ठीक है मेरी”,

इस झूठ को एक पल में पकड़ लेते हैं।
सलीके से बोली गई बात को पापा ना जाने कैसे पढ़ लेते है।
दवाएं खीज जाती हैं,

आपकी दुआओं का असर देखकर।
सर पर हाथ आपका है,तो हम मौतों से भी लड़ जाते हैं।
आपके कंधों की सैर हवा।

के जहाजों में नहीं मिल पाती है।
मेरी तुच्छ सी कारीगरी से, आंखे आपकी नम हो जाती है।
नही स्वर्ग की आशा मुझको,

आशीष आपका जन्नतों की पाती है।
चरणों में हे ईश पिता, ये बेटी शत शत शीश नवाती है।

– रितु साहू..

तू दूर है इन आंखों से पर ओझल नहीं : कुमार इंद्रभूषण

MY TIMES TODAY.  तू दूर है मुझसे, मगर इन आंखों...

Read More

उसकी एक याद बहुत हैं मुझे रूलाने के लिए… Mr.IBM

MY TIMES TODAY. lipstunes कभी इश्क जूनुन था, कभी आशिकी...

Read More

तेरा होके तेरे सपनों मे मगरुर हो जाता..

MY TIMES TODAY.  रात के अंधेरे मे अक्सर तेरी बातेँ...

Read More

Related posts

Leave a Comment