कविता – मेरे पापा

तबीयत ठीक है मेरी”,

इस झूठ को एक पल में पकड़ लेते हैं।
सलीके से बोली गई बात को पापा ना जाने कैसे पढ़ लेते है।
दवाएं खीज जाती हैं,

आपकी दुआओं का असर देखकर।
सर पर हाथ आपका है,तो हम मौतों से भी लड़ जाते हैं।
आपके कंधों की सैर हवा।

के जहाजों में नहीं मिल पाती है।
मेरी तुच्छ सी कारीगरी से, आंखे आपकी नम हो जाती है।
नही स्वर्ग की आशा मुझको,

आशीष आपका जन्नतों की पाती है।
चरणों में हे ईश पिता, ये बेटी शत शत शीश नवाती है।

– रितु साहू..

[pfc layout=”layout-one” cat=”1012″ order_by=”date” order=”ASC” post_number=”3″ length=”10″ readmore=”Read More” show_date=”false” show_image=”true” image_size=”thumbnail”]

My times Today network

One thought on “कविता – मेरे पापा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

छत्तीसगढ़ एमपी सहित पांच राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान

Sat Oct 6 , 2018
तबीयत ठीक है मेरी”, इस झूठ को एक पल में पकड़ लेते हैं। सलीके से बोली गई बात को पापा ना जाने कैसे पढ़ लेते है। दवाएं खीज जाती हैं, आपकी दुआओं का असर देखकर। सर पर हाथ आपका है,तो हम मौतों से भी लड़ जाते हैं। आपके कंधों की […]
MY TIMES TODAY
Right Menu Icon