‘प्याज की चाय’ चुस्की के साथ रोगों से मुक्ति

माय टाइम्स टुडे। आपको सुनने में थोड़ा अटपटा लग सकता है कि प्याज की चाय भी बनती है पर यह बिल्कुल सच है. प्याज की चाय आजकल लोग एक नए प्रयोग के तौर पर अपनाने लगे है. इसके पिछे प्याज का वैज्ञानिक दृष्टि से औषधी के रूप में समृद्ध होना है. लोग चिंता तनाव ,डायबिटीस ,अनिद्रा, कब्ज आदि बीमारियों से बचने के लिए प्याज की चाय दैनिक उपयोग में ला रहे हैं. 

शोधकर्ताओं के अनुसार प्याज की चाय अनिद्रा, हाई बीपी, कैंसर, शुगर लेवल, एनीमिया, पेट की बीमारी और वजन कम करने में काफी मददगार होती है.आईए जानते है कि प्याज की चाय कैसे बनती है.

कैसे बनाएं: 

प्याज की चाय बनाने के लिए एक बर्तन में 2 कप पानी लें। फिर उसमें प्याज छीलकर उसके छोटे-छोटे टुकड़े कर के डालें. जब पानी उबल कर 1 कप रह जाए तब इस पानी को छानकर गुनगुनी कर लें और इसमें 4 बूंद नींबू का रस डाल कर 1 ग्रीन टी बैग डालें. 5 मिनट के बाद टी बैग निकाल लें. आप चाहे तो इसमें शहद मिला सकते हैं.आपकी चाय तैयार है.

प्याज की चाय पीने के फायदे : 

लू से छुटकारा…

गर्मी के मौसम में गर्म हवा के कारण (लू लगने से ) हम बीमार पड़ जाते हैं. इस समय प्याज का रस अमृत के समान है. नॉरमल चाय की जगह गर्मी के मौसम में प्याज की चाय लू रोकने में  कारगर साबित हो सकती है.

संक्रमण से मुक्ति….

प्याज में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का गुण है. इससे शरीर किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए सक्षम बनाता है. ये संक्रमण को रोकने में भी सहायक होता है. प्याज प्राकृतिक रूप से एन्टीबायोओटिक, एन्टीसेप्टिक है जो आपको हमेशा ही संक्रमण से दूर रखता है.

कैंसर को को कहे बाय बाय…

प्याज की चाय कैंसर से बचने के लिए प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है. यह सभी प्रकार के कैंसर जैसे कोलोरेक्टल, और ओवरियन कैंसर से बचाता है.

त्वचा चमकाए आंखों की रौशनी बढ़ाए…..

अगर आप चमकदार, कांतिमय त्वचा चाहते हैं तो प्याज से बनी चाय का सेवन एवं उपयोग शुरू कर दीजिये. प्याज में भरपूर मात्रा में एन्टीओक्सिडेंट्स, विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई होते हैं जो की त्वचा के लिए लाभदायक होते हैं. विटामिन ए की प्रचुरता के कारण आंखों की रौशनी हमेशा बनी रहती हैं.

यादाश्त बढ़ाने में मददगार ….

प्याज मे मौजूद फायटोकेमिकल्स  मस्तिष्क को मजबूत बनाता है. यह तंत्रिका तंत्र को नियंत्रित करता है तथा याद्दाश्त बढ़ाने में सहायक होता है.

यह भी पढ़ें : देश के इतिहास में पहली बार ई नामिनेशन 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!