लंदन से भारत की बात कार्यक्रम में पीएम ने कहा यह लोकतंत्र की ताकत है कि चाय बेचने वाला रॉयल पैलेस में बैठा है

You can share it

माय टाइम्स टुडे। हमें खुशी है कि हमने ऐसा माहौल बनाया कि लोग हमसे ज्यादा की अपेक्षा करते हैं.आज सवा सौ करोड़ देशवासियों के दिल में इच्छाएं हैं.ये भारत के लोकतंत्र की ताकत है कि चाय बेचने वाला भी उनका प्रतिनिधि बनकर रॉयल पैलेस आ जाता है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को लंदन के वेस्टमिंस्टर सेंट्रल हॉल में ‘भारत की बात, सबके साथ’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह विचार व्यक्त किये. पीएम ने कहा कि अगर कोई कहता है कि बेसब्री बुरी चीज़ है तो वो बूढ़ा हो सकता है. बेसब्री देश के लोगों के दिल में प्रगति के बीज बोती है, मैं बेसब्री को बुरा नहीं मानता हूं. मैं मानता हूं जिस दिन मेरी बेसब्री खत्म हो जाएगी उस दिन मैं भारत के लिए किसी काम का नहीं बचूंगा.

पीएम मोदी की बड़ी बातें : 

जिस देश का सर्वोच्च पद सिर्फ एक परिवार तक ही सीमित था, ये सवा सौ भारतीयों का संकल्प है कि एक चाय बेचने वाला व्यक्ति भी देश के सर्वोच्च पद पर बैठ सकता है.

ये भारत के लोकतंत्र की ताकत है कि जनता अगर फैसला कर ले तो चाय बेचने वाला भी उनका प्रतिनिधि बनकर रॉयल पैलेस आ जाता है. रॉयल पैलेस में आज बैठा आदमी सवा सौ करोड़ लोगों का एक सेवक है.

देश को अपना समझकर काम करने की जरूरत है. लोकतंत्र में जनता को ज्यादा से ज्यादा जोड़ने की जरूरत है. मेरी अपील के बाद सवा करोड़ लोगों ने गैस सब्सिडी छोड़ी है.

लोकतंत्र 5 साल के लिए दिया गया लेबर कॉन्ट्रैक्ट नहीं भागीदारी का काम है.अगर आपके पास स्पष्ट नीति और नेक इरादे हों, तो आप सर्वजन हिताय का काम कर सकते है.

गांधी जी ने आजादी को जन-आंदोलन बनाया था, मैं विकास को जन-आंदोलन बना रहा हूं.

भारत ने कभी किसी की भी जमीन हड़पने का प्रयास नहीं किया. भारत देश पर नजर उठाने वालों को उनकी भाषा में जवाब देना जानता है. भारतीय सेना का अधिकार था न्याय प्राप्त करना और सर्जिकल स्ट्राइक के जरिए हमने किया.

Related posts

Leave a Comment